• प्रदेशभर में 6 हजार से अधिक परीक्षा केंद्रों को सुबह सैनिटाइज कराया गया
  • 30 जून तक चलने वाली बोर्ड की परीक्षा में कुल 20.58 लाख परीक्षार्थी शामिल हो रहे हैं

दैनिक भास्कर

Jun 18, 2020, 07:10 PM IST

अजमेर. (आरिफ कुरैशी). गुरुवार को राजस्थान माध्यमिक शिक्षा बोर्ड द्वारा 12वीं विज्ञान वर्ग के गणित का परीक्षा आयोजित की गई। परीक्षा देकर निकले परीक्षार्थियों के चेहरों पर खुशी थी। उनका कहना था कि देर से ही सही पेपर हो गया। आखिरकार कंफ्यूजन की स्थिति खत्म हुई। इससे पहले प्रदेश के सभी 6 हजार से अधिक परीक्षा केंद्रों को सुबह सैनिटाइज कराया गया था। 

जानकारी के मुताबिक, दोपहर 11.45 बजे गणित का पेपर छूटते ही छात्र बाहर आए। ये सभी पिछले तीन महीने से अपने बचे हुए पेपर होने का इंतजार कर रहे थे। सावित्री उच्च माध्यमिक विद्यालय में परीक्षा केंद्र से पेपर देकर लौटे अनीश का कहना था कि लॉकडाउन के चलते परीक्षा की आस ही छोड़ दी थी। लंबा समय हो जाने पर पेपर की तैयारी भी नहीं हो रही थी। जब बोर्ड ने संशोधित टाइम टेबल जारी किया, तब वापस पढ़ाई शुरू की। आज पेपर अच्छा हुआ।

टीचर और स्टूडेंट्स सभी को मास्क लगाकर ही एंट्री दी गई।

एग्जाम देने पहुंचे, लेकिन दोस्तों से मिल नहीं पाए

एक स्टूडेंट दिशा खन्ना ने कहा कि कोरोना की वजह से पहले ही बहुत डरे हुए थे। पहली बार मास्क लगा कर परीक्षा देने का अनुभव भी याद रहेगा। कोरोना की वजह से परीक्षा केंद्र पर सब से खुल कर भी नहीं मिल पा रहे थे। पेपर बड़ा था, लेकिन अच्छा हुआ।

परीक्षा केंद्रों पर सैनिटाइजेशन की भी पूरी व्यवस्था की गई।

घर पर बैठे-बैठे बोर हो गए

छात्र नावेद अहमद का कहना है कि एक पेपर की वजह से हर समय बेचैनी रहती थी। समय पर पेपर हो जाता तो अब तक परिणाम आ जाता। वहीं, सुरेश का कहना था कि तीन महीने तक घर में भी बोर हो गए। पढ़ाई भी कहां तक हो पाती, तैयारी पहले से भी थी। आज पेपर देखा तो राहत मिली। पेपर अच्छा था। अधिकांश सवाल हल कर लिए। कोरोना के बीच हुआ यह पेपर हमेशा याद रहेगा।

तीन महीने बाद दोस्तों से मिले छात्र, लेकिन खुलकर बात नहीं कर सके।



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here