• रीडिंग में अंतर आने पर पहुंचे कंपनी कार्यालय, रीडिंग देखकर कम किए जा रहे हैं बिल

दैनिक भास्कर

May 25, 2020, 07:54 AM IST

रतलाम. बिजली कंपनी में इस महीने ज्यादा बिल आने की शिकायत बढ़ गई है। 200 से ज्यादा उपभोक्ता रोज बिजली कंपनी में पहुंच शिकायत कर रहे हैं। ऐसे में कंपनी के कर्मचारी उपभोक्ताओं से रीडिंग मंगा रहे हैं और अंतर आने पर बिजली बिल में संशोधन कर रहे हैं। शहर के एक नहीं कई उपभोक्ता ऐसे है जिनका बिजली का बिल ज्यादा आ गया था। लेकिन शिकायत करने पर कम हो गया है। 
दरअसल लॉकडाउन के चलते रीडिंग नहीं होने से बिजली कंपनी ने इस महीने शहर के सभी उपभोक्ताओं को अनुमानित खपत के बिल जारी किए हैं। अनुमानित खपत पिछले साल के आधार पर तय की है। ऐसे में कई उपभोक्ता बिजली कंपनी को ज्यादा बिल आने की शिकायत कर रहे हैं। 
1199 रुपए का बिल आया, शिकायत से 381 रुपए हो गया 
धानमंडी निवासी व्यापारी समीर तलेरा का इस महीने का बिजली का बिल 1199 रुपए आया। जबकि हमेशा 300 से 400 रुपए के आसपास आता है। इस पर वे बिजली कंपनी पहुंचे और शिकायत की। पहले तो उनकी शिकायत नहीं सुनी। इस पर उन्होंने कहा कि मैं आपकी शिकायत कलेक्टर को करूंगा तो उनकी शिकायत सुनी। जब रीडिंग के आधार पर कर्मचारी ने उनका बिल चेक किया तो बिल की राशि घटाकर 351 रुपए कर दी। 

2500 रुपए का बिल भेजा, करेक्शन कर 100 रुपए किया
पीएंडटी कॉलोनी निवासी प्राइवेट कर्मचारी प्रकाश मारवाड़ का 2500 रुपए का बिजली का बिल आया। जबकि हमेशा 100 से 200 रुपए का ही आता है। बिल लेकर वे बिजली कंपनी पहुंचे और बोले इतना बिल कैसे आ गया। कर्मचारियों ने जांच की तो ज्यादा राशि का बिल जारी होना मिला। इस पर बिल कम कर 100 रुपए का कर दिया। प्रकाश ने बताया इतना बिल कभी नहीं आता है। बिजली कंपनी को जितनी खपत है उतना बिल जारी करना चाहिए। 

कुछ उपभोक्ताओं की रीडिंग में अंतर आ रहा है, उनका प्रतिशत कम है 
शहर कार्यपालन यंत्री विनय प्रतापसिंह ने बताया हमने पिछले साल से तुलना कर अनुमानित खपत के बिल जारी किए हैं। 
कुछ उपभोक्ताओं की रीडिंग में अंतर आया है। वो भी किसी मकान में कोई किराएदार रहता था वो खाली कर चला गया है या फिर उपयोग कम हो गया है। लेकिन उनका आंकड़ा भी दो से चार फीसदी ही है।



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here