दैनिक भास्कर

Apr 30, 2020, 07:16 AM IST

रांची. झारखंड में दो दिनों में नए कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या पर तो ब्रेक लगा है, मगर अब तक यहां कुल टेस्टिंग के आंकड़े और मरीजों के मिलने की दर चिंता का विषय बनी हुई है। पड़ोसी राज्य बिहार की तुलना में अब तक झारखंड में करीब आधे ही टेस्ट हुए हैं। वहीं प्रति 100 टेस्ट मरीज मिलने की दर भी बिहार से करीब आधी ही है। इसकी बड़ी वजह पहचान में आए संक्रमित मरीजों की कॉन्टैक्ट ट्रेसिंग की धीमी गति और इसके जरिये मिलने वाले हाई रिस्क संदिग्धों की सैंपलिंग में ढिलाई है। 100 से ज्यादा मरीज वाले राज्यों में अब तक सबसे कम टेस्ट झारखंड में ही हुए हैं। 
आंकड़ों में देखें तो 100 से ज्यादा मरीजों वाले राज्यों में सिर्फ छत्तीसगढ़ और ओडिशा ही ऐसे राज्य हैं जहां प्रति 100 टेस्ट मिलने वाले मरीजों की संख्या झारखंड से कम है। जबकि इन दोनों ही राज्यों में कुल टेस्ट झारखंड से ज्यादा किए गए हैं। 

जामताड़ा, रांची में मिले 1-1 संक्रमित, अब 108 हुए

जामताड़ा और रांची में बुधवार को एक-एक और कोरोना पॉजिटिव मिले। जामताड़ा के कुडहित के बाद नाला में मिला नया मरीज 32 साल का है, जो बिहार के बांका जिले का रहने वाला है। वहीं रांची के हिंदपीढ़ी में एक और नया मरीज मिलने के बाद राज्य में संक्रमितों की संख्या बढ़कर 108 हो गई है। डीसी गणेश कुमार ने बताया कि युवक को कोलकाता से बिहार जाने के दौरान नाला में क्वारेंटाइन किया गया था। यहां युवक के साथ रह रहे 35 अन्य संदिग्धों के सैंपल भी जांच के लिए एमजीएम अस्पताल जमशेदपुर भेजे जाएंगे। इधर, बोकारो के साड़म का संक्रमित मरीज ठीक हो गया है।

लालू का इलाज कर रहे 23 डॉक्टरों की रिपोर्ट निगेटिव
लालू प्रसाद कोरोना के संक्रमण से सुरक्षित हैं। रिम्स में उनका इलाज कर रहे डॉ. उमेश प्रसाद समेत 23 डॉक्टरों की जांच रिपोर्ट निगेटिव आई है। सोमवार को डॉ. उमेश प्रसाद के वार्ड में एक मरीज पॉजिटिव आने के बाद सभी डाॅक्टरों को क्वारेंटाइन कर टेस्ट किया गया था।



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here