• रजनीकांत ने कहा- सरकार लोगों को आश्वासन दे चुकी है कि सीएए से लोगों को कोई परेशानी नहीं होगी
  • उन्होंने कहा- बाहरी लोगों के बारे में पता लगाने के लिए एनपीआर बेहद जरूरी है

Dainik Bhaskar

Feb 05, 2020, 12:38 PM IST

चेन्नै. तमिल सुपरस्टार रजनीकांत ने बुधवार को कहा कि नागरिकता कानून (सीएए) से मुसलमानों को कोई खतरा नहीं है। अगर उन्हें इससे परेशोनी हुई तो आवाज उठाने वाला सबसे पहला व्यक्ति मैं रहूंगा। केंद्र सरकार लोगों को आश्वासन दे चुकी है कि सीएए से देश के नागरिकों को परेशानी नहीं होगी। साथ ही उन्होंने कहा कि बाहरी लोगों के बारे में पता लगाने के लिए राष्ट्रीय जनसंख्या रजिस्टर (एनपीआर) बेहद जरूरी है।

रजनीकांत ने कहा- विभाजन के बाद वैसे मुसलमान जो भारत में रहने आए, उन्हें देश से बाहर कैसे भेजा जाएगा? कुछ राजनीतिक दल अपने स्वार्थ के लिए सीएए के खिलाफ लोगों को उकसा रहे हैं।

पेरियार पर दिए बयान पर माफी मांगने से इनकार किया था

इससे पहले रजनीकांत ने 21 जनवरी को पेरियार पर दिए अपत्तिजनक बयान पर माफी मांगने से इनकार कर दिया था। उन्होंने ने कहा था- पेरियार भगवान के कट्‌टर आलोचक थे। उन्होंने 1971 की एक रैली में भगवान राम-सीता की आपत्तिजनक तस्वीर दिखाई थी। लेकिन, किसी ने उनकी आलोचना नहीं की। इसके बाद द्रविड़ संगठन ने रजनीकांत से बिना शर्त माफी की मांग की थी। पत्रिकाओं और अखबारों की कटिंग दिखाते हुए अभिनेता ने कहा था कि उन्होंने कुछ भी गलत नहीं बोला है। वे अपने बात साबित कर सकते हैं।



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here