लखनऊ6 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

यह तस्वीर लखनऊ की है। कानपुर अपहरण केस को लेकर कांग्रेसियों ने प्रदेश अध्यक्ष लल्लू की अगुवाई में प्रदर्शन किया।

  • संजीत का 22 जून को अपहरण हुआ था, 29 जून को परिजन के पास फिरौती के लिए फोन आया था
  • योगी सरकार ने एएसपी, सीओ समेत 11 पुलिसकर्मियों को सस्पेंड किया

उत्तर प्रदेश के कानपुर में बर्रा थाना क्षेत्र के रहने वाले लैब टेक्नीशियन संजीत यादव के अपहरण और फिर उसकी हत्या के मामले को लेकर सियासत शुरू हो गई है। सपा, कांग्रेस और बसपा ने प्रदेश की कानून व्यवस्था और कानपुर पुलिस की कार्यशैली को लेकर योगी सरकार पर निशाना साधा है। कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने कहा कि इस जंगलराज में कानून-व्यवस्था गुंडों के सामने सरेंडर कर चुकी है। बसपा प्रमुख मायावती ने यूपी में जंगलराज होने की बात कही। वहीं, सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने भी ट्वीट कर पुलिस पर सवाल उठाए हैं। 

प्रियंका गांधी ने कहा- उप्र में कानून व्यवस्था दम तोड़ चुकी है। 

मायावती बोलीं- जंगलराज की एक और ये घटना

अखिलेश यादव ने कहा- सरकार पर 50 लाख का मुआवजा दे

कांग्रेस ने सरकार का किया पिंडदान, सपा ने सौंपा मदद का चेक

संजीत यादव अपहरण और हत्याकांड के विरोध में कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू की अगुवाई में कार्यकर्ताओं ने लखनऊ में अपहरण उद्योग के बैनर पोस्टर के साथ प्रदर्शन किया। इस दौरान सिर मुंडवाकर सरकार का पिंडदान किया। इसके बाद लल्लू पीड़ित परिजन से मुलाकात करने के लिए कानपुर रवाना हुए। लेकिन, पुलिस ने उन्हें हिरासत में ले लिया गया। लल्लू ने कहा कि, यूपी सरकार अपराधियों पर नरम है। लेकिन, दुख दर्द बांटने के लिए जा रहे लोगों पर धमका रही है। हम अकेले जा रहे हैं, मिलने का हमारा अधिकार है। भाजपा जान लें कि कितनी भी पुलिस लगा ले, मुझे संजीत यादव के परिजनों से मिलने से रोक नहीं सकती। वहीं सपा प्रदेश अध्यक्ष नरेश उत्तम ने कानपुर में पीड़ित परिवार को पांच लाख का चेक सौंपा है। 

0





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here