• रेशमा ने अपील की कि सभी को डॉक्टर के बताए नियम का पालन करना चाहिए
  • अस्पताल अधीक्षक ने कहा- चार और मरीज ठीक हुए, उनके दूसरे रिपोर्ट का इंतजार है

दैनिक भास्कर

Apr 07, 2020, 06:27 PM IST

भागलपुर. (त्रिपुरारि) भागलपुर के जेएलएनएमसीएच में भर्ती कोरोना के दो मरीज मंगलवार को स्वस्थ होकर घर लौट गए। दूसरी रिपोर्ट भी निगेटिव आने पर मुंगेर की रेशमा बेगम और 12 साल के बच्चे मोहम्मद कैफ को अस्पताल से छुट्टी मिल गई। दोनों जब घर जाने के लिए वार्ड से निकले तो डॉक्टरों और नर्सों ने तालियां बजाकर उनका स्वागत किया। रेशमा ने डॉक्टर को धन्यवाद दिया। कोरोना से बिहार में पहली मौत मुंगेर के सैफ नाम के युवक की हुई थी। सैफ रेशमा के परिवार का सदस्य था। बिहार में कोरोना से स्वस्थ होने वाले मरीजों की संख्या 11 हो गई है। 32 लोगों के रिपोर्ट कोरोना पॉजिटिव मिले थे। एक मरीज की मौत हुई थी। 

Patna News In Hindi : Coronavirus In Bihar Latest Update: Coronavirus Patients In Bihar Bhagalpur Recover, Discharged From JLNMCH Bhagalpur Hospital | कोरोना के दो मरीज स्वस्थ, जिस महिला के परिवार के युवक की कोरोना से मौत हुई थी वह हुई ठीक
महिला और बच्चे का दूसरा रिपोर्ट निगेटिव आने पर उनका इलाज कर रहे डॉक्टरों ने खुशी जताई। 

डरना नहीं, लड़कर कोरोना को हराना है
रेशमा ने कहा कि कोरोना से डरना नहीं है, बल्कि लड़कर उसे शिकस्त देना है। रेशमा ने अपील की कि सभी को डॉक्टर के बताए नियम का पालन करना चाहिए। उन्होंने अस्पताल में इलाज के दौरान खाने-पीने से लेकर हर तरह की बेहतर सुविधाएं परिवार के सदस्यों की तरह उपलब्ध कराने पर सबका शुक्रिया अदा किया।

रेशमा ने कहा कि मुझे पता ही नहीं चला था कि कोरोना हो गया। सर्दी-खांसी तो साल में कई बार होता था। इसलिए सर्दी-खांसी हुई तो मुझे नहीं लगा कि कोरोना की शिकार हो गई हूं। मेरे परिवार में एक सदस्य की कोरोना से मौत हुई। इसके बाद सभी की जांच कराई गई। मेरा रिपोर्ट पॉजिटिव आया था। रिपोर्ट आने के बाद मैं डर गई थी, लेकिन डॉक्टर और परिवार का सपोर्ट मिला तो मुझमे हिम्मत आ गई। मैंने डॉक्टर द्वारा बताए गए सभी सलाह माने, समय पर दवा ली। अब ठीक हो गईं हूं।

चार और मरीज हुए स्वस्थ
आइसोलेशन वार्ड के डॉक्टर से लेकर अस्पताल अधीक्षक डॉ. आरसी मंडल मरीजों के ठीक होने को बड़ी कामयाबी मान रहे हैं। अस्पताल अधीक्षक ने कहा कि  चार और मरीज कोरोना से ठीक हुए हैं। उनका एक रिपोर्ट निगेटिव आया है। हमें एक और रिपोर्ट का इंतजार है। उसके निगेटिव आने पर चारों को छुट्टी दी जाएगी। 

हमारे लिए रिजल्ट आने जैसा: नोडल ऑफिसर 
आइसोलेशन वार्ड के नोडल ऑफिसर डॉ. हेमशंकर शर्मा ने कहा कि हमारे सभी जूनियर, सीनियर डॉक्टरों के अलावा अस्पताल अधीक्षक व नर्सिंग स्टाफ समेत सभी वार्ड ब्वॉय से लेकर स्वीपर व तमाम कर्मियों के सहयोग से यह पहली जीत मिली है। बच्चों के जैसे एग्जाम के पेपर जाने के बाद रिज्ल्ट आते हैं, ठीक वैसा ही हमलोगों को मरीज को अस्पताल से छुट्टी देकर महसूस हो रहा है। 

विश्व स्वास्थ्य दिवस के दिन मरीज को घर भेजना और भी सुकून दे रहा है। क्योंकि मरीज को देखने से लेकर उसकी रिपोर्ट व फॉलोअप के लिए हमलोग खुद भी दो-दो बार हर दिन स्नान करते हैं और परिवार के सदस्यों से घंटे-दो घंटे तक अस्पताल से आने पर दूरी बनाकर ही रहते हैं, ताकि परिवार के लोग सुरक्षित रहें। यह हमारे सभी टीम की तपस्या और मरीज के साहस और धैर्य का कमाल है।



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here