• कार्डधारियों को अप्रैल से जून तक मुफ्त में मिलेगा पांच किलोग्राम चावल व एक किलो दाल

दैनिक भास्कर

Apr 11, 2020, 01:03 AM IST

औरंगाबाद. जिलेभर के पीडीएस दुकानों में 2.99 लाख कार्डधारियों को अप्रैल से जून तक मुफ्त में पांच केजी चावल व एक केजी दाल मिलेगा। दुकानों के बाहर बाकायदा इसका बैनर लगाया जाएगा। डीएम सौरभ जोरवाल ने इस संबंध में एक पत्र जारी किया है। जिसमें तमाम निर्देश जारी किए गए हैं। बैनर में दुकान खुलने का समय व मुफ्त में मिलने वाले राशन का जिक्र होगा। ताकि लाभुकों को कोई परेशानी न हो सके। सचिव खाद्य एवं उपभोक्ता संरक्षण विभाग बिहार के पत्रांक 1529 दिनांक 3 अप्रैल द्वारा जारी पत्र के आलोक में डीएम ने यह निर्देश जारी किया है। इस पत्र के जारी होने के बाद डीलर अब राहत के सांस लेंगे। 

1100 पीडीएस दुकान, 2.99 कार्डधारी, 15 लाख लाभुक
सूत्रों के अनुसार जिलेभर के 204 पंचायतों में करीब 1100 पीडीएस दुकान हैं। वहीं 2.99 लाख कार्डधारी हैं। जबकि करीब 15 लाख लाभुक। जिन्हें हर माह कार्ड के हिसाब से पीडीएस दुकानों द्वारा राशन उपलब्ध कराया जाता है। वैश्विक महामारी कोरोना वायरस के संक्रमण फैलने के बाद राज्य सरकार द्वारा यह निर्णय लिया गया कि अप्रैल से जून माह तक सभी प्रकार के कार्डधारियों को पांच केजी चावल व एक केजी दाल मुफ्त में उपलब्ध कराया जाएगा। जिसका वितरण जिले में शुरू भी हो चुकी है। डीलरों द्वारा लोगों को अनाज उपलब्ध कराया जा रहा है। लेकिन इसमें कई प्रकार की शिकायत व विवाद भी सामने आ रहा था। जिसकी सूचना सरकार व जिला प्रशासन तक पहुंच गई।

आदेश के बाद निष्पक्षता से बांटा जा रहा था राशन
 सह को-ऑपरेटिव चेयरमैन संतोष कुमार सिंह ने बताया कि पांच केजी मुफ्त चावल व एक केजी मुफ्त दाल सरकारी आदेश के बाद डीलरों द्वारा निष्पक्षता पूर्वक बांटा जा रहा था। लेकिन कुछ नेताजी डीलरों को डरा धमकाकर वितरण करने के लिए उक्त अनाज को बिना कार्डधारियों को दिलाकर अपना चेहरा चमका रहे थे। इस संबंध में डीएम सौरभ जोरवाल, डीडीसी अंशुल कुमार व सदर एसडीओ डाॅ. प्रदीप कुमार से मिलकर मैने शिकायत की थी। मैंने कहा था कि कुछ लोग डीलरों को अपनी चेहरा चमकाने के लिए परेशान कर रहे हैं। इसपर नकेल कसा जाए। वरना बाद में डीलर बदनाम हो जाएंगे। यही लोग डीलरों को फंसाने की साजिश रचेंगे। लेकिन डीएम साहब द्वारा आदेश जारी करने के बाद डीलर राहत के सांस ले रहे हैं। 

अलग-अलग पंचायतों के लिए दंडाधिकारी नियुक्त, इनके निगरानी में बंटेगा अनाज
सदर प्रखंड के लिए बीडीओ औरंगाबाद, अंचल अधिकारी औरंगाबाद, बाल विकास परियोजना पदाधिकारी औरंगाबाद को प्रतिनियुक्त किया गया है। जबकि नगर परिषद औरंगाबाद के लिए एमओ औरंगाबाद को दंडाधिकारी नियुक्त किया गया है। इसी तरह देव प्रखंड के लिए देव सीओ व सीडीपीओ को दंडाधिकारी नियुक्त किया गया है। मदनपुर प्रखंड के लिए बीडीओ, सीओ व सीडीपीओ को दंडाधिकारी नियुक्त किया गया है। कुटुंबा में बीडीओ, सीओ व सीडीपीओ को दंडाधिकारी नियुक्त किया गया है। नवीनगर में बीडीओ, सीओ, सीडीपीओ व एमओ को दंडाधिकारी प्रतिनियुक्त किया गया है। इसी तरह बारून में बीडीओ, सीओ व सीडीपीओ को दंडाधिकारी प्रतिनियुक्त किया गया है। रफीगंज प्रखंड के लिए बीडीओ, सीओ, सीडीपीओ व एमओ को दंडाधिकारी बनाया गया है। ओबरा प्रखंड के लिए बीडीओ, सीओ, सीडीपीओ, दाउदनगर के लिए बीडीओ, सीओ व सीडीपीओ को दंडाधिकारी बनाया गया है। वहीं दाउदनगर शहर के लिए प्रखंड आपूर्ति पदाधिकारी को नियुक्त किया गया है। जबकि हसपुरा प्रखंड के लिए बीडीओ, सीओ, सीडीपीओ को दंडाधिकारी बनाया गया है। इसी तरह गोह के लिए बीडीओ, सीओ व सीडीपीओ को दंडाधिकारी बनाया गया है। 

पूरी निष्पक्षता से होगा खाद्यान्न वितरण
पूरी निष्पक्षता के साथ हर कार्डधारी को मुफ्त में पांच केजी चावल व एक केजी दाल अप्रैल से जून माह तक उपलब्ध कराया जाएगा। निगरानी के लिए दंडाधिकारी नियुक्त किए गए हैं। – सौरभ जोरवाल, डीएम



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here