• महाराष्ट्र में संक्रमण से अब तक कुल 35 लोगों की जान जा चुकी है; वहीं राज्य में संक्रमितों का आंकड़ा 661 तक पहुंच गया है
  • प्रदेश की होटल एसोसिएशन ने राज्य सरकार को  क्वारैंटाइन सेंटर बनाने के लिए 45 हजार कमरे सौंपने की पेशकश की है

दैनिक भास्कर

Apr 05, 2020, 02:28 PM IST

मुंबई. महाराष्ट्र में रविवार को संक्रमण के चलते तीन लोगों की मौत हो गई। तीनों मौत पुणे में हुई हैं। मृतकों में 69 और 60 साल की दो महिलाएं और 52 साल का एक व्यक्ति है। इसमें दो को डायबिटिज की शिकायत थी, जबकि 69 साल की महिला को अन्य बीमारी थी। पुणे में अब तक संक्रमण से पांच लोगों की जान जा चुकी है। इसे मिलाकर राज्य में संक्रमण से होने वाली मौतों की संख्या 35 पहुंच गई है। वहीं, प्रदेश में संक्रमण के 26 नए केस रविवार सुबह सामने आए। इनमें पुणे में 21, अहमदनगर में 3 और 2 केस औरंगाबाद के हैं। राज्य में अब कुल संक्रमितों की संख्या 661 तक पहुंच गई है। 

इस बीच, राज्य में  लगातार बढ़ रहे संक्रमण के मामलों को देखते हुए बृहन्मुंबई नगर निगम (बीएमसी) समुद्र के बीच क्वारैंटाइन सेंटर बनाने पर विचार कर रही है। इसके लिए ‘जलेश’ क्रूज को इस्तेमाल किया जा सकता है। इसमें 1 हजार बेड की व्यवस्था है। वहीं दूसरी तरफ राज्य में होटल कारोबारियों के संगठन फेडरेशन ऑफ होटल एंड रेस्टोरेंट एसोसिएशन ऑफ इंडिया ने कोरोना से निपटने के लिए राज्य सरकार से 45 हजार कमरे सौंपने की पेशकश की है।

महाराष्ट्र के गृहमंत्री के आदेश के बाद मुंबई के कई इलाकों में पुलिस ने लॉकडाउन को लेकर सख्ती बढ़ाई।

शनिवार को छह संक्रमितों की गई थी जान
इससे पहले शनिवार को राज्य में संक्रमण से 6 मौतें हुईं। इसमें पांच मुंबई जबकि एक अमरावती में हुई थी। शुक्रवार को भी छह लोगों की मौत हुई थी। यानी अगर रविवार के मृतकों की संख्या भी जोड़ ली जाए तो पिछले तीन दिनों में राज्य में 15 लोगों की संक्रमण के चलते जान जा चुकी है। महाराष्ट्र के स्वास्थ्य मंत्री राजेश टोपे ने शनिवार को लोगों को लोगों को लॉकडाउन का सख्ती से पालन करने की अपील की थी। उन्होंने यह भी कहा था कि अगर लोग अनुशासन में नहीं रहेंगे और कोविड-19 के मामले बढ़े तो राज्य में  सरकार 14 अप्रैल को लॉकडाउन नहीं हटाएगी। 

मुंबई के बोरीवली इलाके में दिनभर घरों में रहने के बाद शाम को लोग इस तरह घूमते नजर आए। 

धार्मिक अनुष्ठान घर में रहकर करें: अजित पवार
उपमुख्यमंत्री अजित पवार ने लोगों से अपील की है कि वे धार्मिक अनुष्ठान, प्रार्थना, कार्यक्रम घरों में ही करें। डॉक्टर, पुलिसकर्मी, महानगरपालिका कर्मचारी अपनी जान खतरे में डालकर कर्तव्यों का पालन कर रहे हैं, जिन इलाकों में कोरोना के मरीज मिल रहे हैं, उन इलाकों को सील किया जा रहा है। ऐसी स्थित में बाहर निकलना उचित नहीं होगा। इससे कोरोना के खिलाफ लड़ी जा रही लड़ाई कमजोर पड़ेगी। सोमवार को महावीर जयंती, बुधवार को हनुमान जयंती और शब-ए बरात है।

मुंबई के बोरीवली इलाके में लोग कर्फ्यू का नियम तोड़ते और मॉर्निंग वाक पर जाते नजर आए।

अमरावती में संक्रमण से पहली मौत
अमरावती जिले में कोरोना से 45 वर्षीय युवक की मौत हो गई। शनिवार को उसकी रिपोर्ट पॉजिटिव आई। इसके बाद प्रशासन ने हाजीपुर के आसपास का करीब डेढ़ किलोमीटर इलाका सील कर दिया। मृतक के परिजन समेत अंतिम संस्कार में शामिल रहे 20 लोगों के नमूने जांच के लिए भेजे गए हैं। इन सभी को भी होम क्वारैंटाइन कर दिया गया है। उसका इलाज करने वाले निजी अस्पताल के डॉक्टर ने भी खुद को क्वारैंटाइन कर लिया है।

पुणे के रबाले इलाके में लोग चिकन खरीदने के लिए दुकान के बाहर जमा हुए।
पुणे की कई सोसाइटी में लोग व्यक्तिगत रूप से इमारतों का सैनिटाइजेशन करवा रहे हैं। 

5 लाख प्रवासी मजदूरों के रहने की व्यवस्था 
मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने बताया कि यहां रहने वाले दूसरे राज्य और महाराष्ट्र के मजदूरों समेत कुल पांच लाख मजदूरों की राज्य सरकार की ओर से व्यवस्था की गई है। इन मजदूरों को दो वक्त का खाना दिया जा रहा है। इनके लिए दवाओं की भी व्यवस्था की गई है।

परभणी के चामणी गांव के लोगों ने बाहरी व्यक्तियों को रोकने के लिए इस तरह का बोर्ड लगाया है।

सोशल मीडिया में अफवाह फैलाने वालों पर कार्रवाई
लॉकडाउन के बाद पैदा हुए हालात में सोशल मीडिया के जरिए अफवाहें फैलाने वालों के खिलाफ महाराष्ट्र में 78 और मुंबई में 8 मामले दर्ज किए गए हैं। साइबर पुलिस के एसपी बाल सिंह राजपूत के अनुसार, राज्य में वॉट्सऐप के 47 और फेसबुक के 10 मामले है।



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here