• मायावती ने प्रेस कॉफ्रेंस कर भाजपा व कांग्रेस पर साधा निशाना, कहा- श्रमिकों पर दोनों पार्टियों ने घिनौनी राजनीति की
  • कहा- आजादी के बाद कांग्रेस ने मजदूरों के लिए कुछ नहीं किया, इसलिए सबसे ज्यादा उनके राज में हुआ पलायन

दैनिक भास्कर

May 24, 2020, 08:27 PM IST

लखनऊ. कोरोना संकट काल में दिल्ली, महाराष्ट्र व अन्य राज्यों में पलायन कर अपने गांव लौट रहे श्रमिकों को लेकर सियासत जारी है। रविवार को बसपा प्रमुख मायावती ने कहा- वर्तमान में मजदूरों की दुर्दश है। इन पर  केंद्र व प्रदेश सरकार को विशेष ध्यान देना चाहिए था, लेकिन ऐसा नहीं हुआ। जब मजदूरों को उनके मालिकों ने भगा दिया, रोजगार छीन लिया तो उनके सामने भुखमरी का संकट खड़ा हो गया। तब मजदूर पलायन को विवश हो गए। मजदूरों को लगा कि, जब भूख से ही मरना है तो परदेश में क्यों मरें? लेकिन सबसे बड़ी दुख की बात है कि, भाजपा व कांग्रेस ने इस मसले पर आरोप-प्रत्यारोप की घिनौनी राजनीति की, तब मुझे बोलना पड़ा। मजदूरों की दुर्दशा के लिए जितनी भाजपा जिम्मेदार है, उससे कहीं अधिक कांग्रेस जिम्मेदार है। 

कांग्रेस अधिक जिम्मेदार क्यों, इसका मायावती ने दिया जवाब
मायावती ने कहा- आजादी के बाद देश व अधिकतर प्रदेशों में कांग्रेस का राज रहा। लेकिन दलित, किसान, मजदूरों को रोटी नहीं मिली तो उन्हें दूसरे राज्यों को पलायन करना पड़ा। बड़े पैमाने पर कांग्रेस की हुकूमत में पलायन हुआ। जब इसके खिलाफ आवाज मुखर की जाती थी तो कांग्रेस शासनकाल में कार्रवाई होती थी। जब जवाहरलाल नेहरू की सरकार में डॉक्टर भीमराव अंबेडकर कानून मंत्री थे तो उन्होंने  अति पिछड़े वर्ग को आरक्षण देने की बात उठाई तो उनकी आवाज को दबा दिया गया। आखिरकार उन्होंने कानून मंत्री के पद से इस्तीफा दे दिया था। कांग्रेस शासन काल में गरीबों की उपेक्षा होती रही।

पुनिया का मायावती से सवाल- आप सीएम थीं मजदूरों के लिए क्या किया
वहीं, कांग्रेस नेता पीएल पुनिया ने मायावती पर पलटवार किया है। उन्होंने कहा- “संकट की घड़ी में कांग्रेस ने हर दम राजनीति से दूर रहकर सरकार का सहयोग करने का काम किया है। प्रियंका व  राहुल सेवा भाव मे लगे हैं। हमने भोजन राशन की व्यवस्था की, सांझी रसोई की व्यवस्था हर जिले में की। मजदूर ज्यादा कमाई के लिए बाहर जाते हैं तो अच्छा है। कांग्रेस ने ही गांव-गांव में रोजगार देने के लिए मनरेगा कार्यक्रम चलाया था। काग्रेस ने भाजपा से कहा, बस चलाने में आप (भाजपा) क्रेडिट न दीजिए। बस से श्रमिकों को घर पहुंचा दीजिए। प्रदेश में अयोध्या, संभल, कन्नौज सहित दर्जनों जगहों पर दलितों पर हुई घटनाओं पर मायावती को कोई चिंता नहीं है।”





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here