• कोरोना में लॉकडाउन के कारण छात्रों पर इससे बहुत ज्यादा आर्थिक बोझ बढ़ जाएगा
  • मानवीय आधार पर फॉलन आउट अतिथि विद्वानों को तत्काल नियुक्ति आदेश दें

दैनिक भास्कर

Jun 11, 2020, 08:06 PM IST

भोपाल. पूर्व मंत्री और विधायक जीतू पटवारी ने छात्रों की हॉस्टल फीस माफ करने की मांग की है। इसके लिए उन्होंने मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को एक पत्र लिखा है। इसमें उन्होंने मांग करते हुए कहा है कि लॉकडाउन के कारण सभी परेशान हैं। हॉस्टल में रहकर पढ़ाई करने वाले छात्रों पर इसका सबसे ज्यादा असर पड़ा है। अभिभावकों के पास पैसा नहीं है। ऐसे में हॉस्टल की फीस भरने की चिंता छात्रों और अभिभावकों के मानसिक तनाव का कारण बन रही है।

मध्यप्रदेश कांग्रेस मीडिया विभाग के प्रभारी एवं पूर्व मंत्री जीतू पटवारी ने बताया कि डॉकडाउन अवधि के दौरान विद्यार्थियों के छात्रावास किराए की प्रतिपूर्ति राज्य शासन को करना चाहिए। प्रदेश के विभिन्न ग्रामीण एवं छोटे शहरों के विद्यार्थी प्रतियोगी परीक्षाओं एवं उच्च अध्ययन के लिए इंदौर, भोपाल एवं अन्य बड़े शहरों में निजी छात्रावासों में रहते हैं। कोरोना के चलते उनके अभिभावक आर्थिक तंगी के दौर से गुजर रहे हैं। इस विषम परिस्थितियों में हॉस्टल की फीस राज्य शासन द्वारा दी जाना चाहिए। पटवारी ने एक पत्र उच्च शिक्षा विभाग के प्रमुख सचिव को भी लिखा है। इसमें उन्होंने फॉलन आउट अतिथि विद्वानों को तत्काल वापस लिए जाने का अनुरोध किया है। उनके नियुक्ति आदेश जारी किए जाएं। साथ ही मार्च 2020 से न्यूनतम मानदेय भुगतान की व्यवस्था भी की जाए।



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here