Jaipur News In Hindi : Nursing worker accuses police of assault, protests in front of district hospital, matter calms down on SP’s apology | नर्सिंगकर्मी ने पुलिस पर लगाया मारपीट का आरोप, जिला अस्पताल के सामने किया प्रदर्शन, एसपी के माफी मांगने पर शांत हुआ मामला

0
91
Jaipur News In Hindi : Nursing worker accuses police of assault, protests in front of district hospital, matter calms down on SP’s apology | नर्सिंगकर्मी ने पुलिस पर लगाया मारपीट का आरोप, जिला अस्पताल के सामने किया प्रदर्शन, एसपी के माफी मांगने पर शांत हुआ मामला


  • पुलिस अधीक्षक अनिल कुमार बेनीवाल ने कहा कि नर्सिगकर्मी अपनी मोटरसाईकिल पर दो महिला नर्सिगकर्मियों को बैठाकर ले जा रहा था और चलते- चलते फोन पर बात भी कर रहा था
  •  इसलिए पुलिसकर्मियों ने उसे रुकवाया। पीछे आ रही नर्सिग स्टाफ के चौपहिया वाहन में महिला नर्सिगकर्मियों को बैठाकर उन्हें अस्पताल भेजा गया और नर्सिगकर्मी को भी जाने दिया गया

दैनिक भास्कर

Apr 14, 2020, 05:01 AM IST

करौली. जिला अस्पताल में स्टोर कीपर के पद पर कार्यरत नर्सिंगकर्मी के साथ पुलिस द्वारा मारपीट करने का आरोप लगाते हुए जहां नर्सिंगकर्मियों ने जनता के हितों से दूर जाकर कार्य बहिष्कार कर प्रदर्शन किया, वहीं दूसरी ओर पुलिस अधीक्षक अनिल कुमार बेनीवाल ने तत्काल जनता के हितों को ध्यान में रखते हुए सभी नर्सिंगकर्मियों से हाथ जोड़कर माफी मांगी और कहा कि जनता के हितों को ध्यान में रखते हुए काम का बहिष्कार ना करे। एसपी के माफी मांगने के साथ ही मामला शांत हो गया और नर्सिंगकर्मी काम पर वापस लौट आए।

गौरतलब है कि सोमवार सुबह सभी नर्सिंगकर्मियों ने जिला अस्पताल में एकत्रित होकर पुलिस द्वारा नर्सिंगकर्मी उमेश कुमार सैनी के साथ मारपीट करने की बात से नाराज होकर कार्य बहिष्कार कर दिया। कार्य बहिष्कार की सूचना लगते ही उपखंड अधिकारी देवेन्द्र परमार एवं पुलिस उपाधीक्षक महेश चंद जिला अस्पताल पहुंचे और नर्सिंगकर्मियों से समझाइश की। जिस पर नर्सिगकर्मी संबंधित पुलिसकर्मी द्वारा माफी मांगने की बात पर अड़े रहे। घटना की जानकारी लगते ही पुलिस अधीक्षक अनिल कुमार बेनीवाल जिला अस्पताल पहुंचे और नर्सिंगकर्मियों के साथ समझाईश की। पुलिस अधीक्षक ने नर्सिंगकर्मियों से हाथ जोडकर माफी मांगते हुए कहा कि जनता के हितों को ध्यान में रखते हुए मैं स्वयं माफी मांगता हूं। सभी काम पर लौट आए। ऐसे समय में आंदोलन सही नहीं है, जनता को हमारी आवश्यकता है। इस पर सभी नर्सिगकर्मी वापस काम पर लौटे और मामला शांत हुआ।
मारपीट के आरोप को झूठा बताया, आत्म संतुष्टि के लिए मांगी माफी
पुलिस अधीक्षक अनिल कुमार बेनीवाल ने कहा कि नर्सिगकर्मी अपनी मोटरसाईकिल पर दो महिला नर्सिगकर्मियों को बैठाकर ले जा रहा था और चलते- चलते फोन पर बात भी कर रहा था। इसलिए पुलिसकर्मियों ने उसे रुकवाया। पीछे आ रही नर्सिग स्टाफ के चौपहिया वाहन में महिला नर्सिगकर्मियों को बैठाकर उन्हें अस्पताल भेजा गया और नर्सिगकर्मी को भी जाने दिया गया। नर्सिंगकर्मी के साथ किसी ने मारपीट नहीं की लेकिन नर्सिगकर्मियों द्वारा मारपीट का झूठा आरोप लगाकर काम का बहिष्कार कर दिया और आंदोलन की चेतावनी दी। एसपी ने कहा कि कोरोना वायरस संक्रमण के चलते यह जनता के हित में नही था। इसलिए जनता के हित को देखते हुए और नर्सिगकर्मियों की आत्म संतुष्टी के लिए मैने माफी मांग ली।
छोटे भाई की पत्नी साथ थी, परिचय देने के बाद भी पीटा
नर्सिगकर्मी उमेश सैनी ने बताया कि वह अपने छोटे भाई की पत्नी जो की एएनएम है उसे मोटरसाईकिल से लेकर उसे उसके कार्यालय छोड़ते हुए स्वयं जिला अस्पताल आने के लिए अपने घर से निकला। तभी रास्ते में राजकीय महाविद्यालय के पास कुछ पुलिसकर्मियों से उसकी गाड़ी को रुकवाया और गाली गलौच करते हुए उसकी गाडी में डंडे मारे और फिर उसके साथ मारपीट की। इसके बाद महिला को पीछे से आ रही एक गाड़ी में बैठा दिया। पुलिस ने हमे तो रोका लेकिन पीछे आ रही चौपहिया वाहन में 4 लोग बैठे थे उन्हें नहीं रोका। इसके बाद मोटरसाईकिल की चाबी रख ली। मैने उन्हें कई बार कहा कि वह जिला अस्पताल अपनी ड्यूटी पर जा रहा है लेकिन उन्होंने एक ना सुनी और थोडी देर बाद मेरी गाड़ी की चाबी मुझे दी।



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here