• कोरोना जोन बने रामगंज में अकेले लगभग 300 पॉजिटिव केस आ चुके है
  • जयपुर में यूपी से इलाज के लिए 13 साल की बच्ची की मौत, जांच में कोरोना पॉजिटिव
  • शहर के 10 थाना क्षेत्रों में लगा हुआ है कर्फ्यू, परकोटा से पांच ह सैंपल लिए गए है

दैनिक भास्कर

Apr 12, 2020, 05:32 PM IST

जयपुर. राजधानी में कोरोना का कहर जारी है। प्रदेश में लॉक डाउन के 19 वें दिन रविवार दोपहर को कोरोना संक्रमितों की संख्या 796 पहुंच गई। वहीं जयपुर में कोरोना संक्रमितों का आंकड़ा 338 हो गया। इसमें इटली के दो नागरिक भी शामिल है। जयपुर के हॉट स्पाट बने कोरोना जोन रामगंज में अकेले 300 कोरोना संक्रमित सामने आए है। इससे माना जा रहा है कि रामगंज कम्यूनिटी इंफेक्शन की बॉर्डर लाइन पर खड़ा है।

परकोटे में पुलिसकर्मी कोरोना योद्धा की भूमिका निभा रहे है। तेज धूप में 12 घंटे की ड्यूटी दे रहे है। सड़क पर ही खाना खा रहे है

चौंकाने वाली बात यह भी है कि देशभर में लिए गए सैंपलों में से 2 प्रतिशत पॉजिटिव केस मिल रहे है, जबकि रामगंज में लिए गए सैंपल्स में करीब तीन गुना यानी 6.75 प्रतिशत केस सामने आ रहे है। यहां रामगंज व परकोटे के अन्य क्षेत्रों में करीब 4000 सैंपल पिछले पांच दिनों में लिए गए है। इससे माना जा रहा है कि आने वाले वक्त में जयपुर में कोरोना संक्रमितों की संख्या तेजी से बढ़ने का अनुमान है। इस बीच प्रदेश के सबसे बड़े एसएमएस अस्पताल की फिमेल नर्स भी कोरोना संक्रमित हो गई है। वह सात दिन से रोस्टर ड्यूटी पर आई थी। इसके दो दिन पहले भी एसएमएस अस्पताल के एक नर्सिंगकर्मी के पॉजिटिव आने के बाद भी उसका परिवार संक्रमण का शिकार हो गया था।

कर्फ्यू के दौरान सड़कों पर पसरा सन्नाटा, गलियां वीरान है। परकोटा सूना है। 

कोरोना संक्रमित 13 वर्षीया बालिका की मौत, यूपी से उपचार करवाने जयपुर आई थी

कोरोना संक्रमण से जयपुर में 13 साल की बच्ची की मौत हो गई है। यह राज्य में कोरोना से नाबालिग की मौत पहला मामला है। बच्ची ने शनिवार रात को यहां के जेके लोन अस्पताल में आखिरी सांस ली। रविवार सुबह बच्ची की रिपोर्ट पॉजिटिव आई थी। वह टाइफाइड से भी पीड़ित थी। आठ अप्रैल को उसे आगरा से इलाज के लिए जयपुर रेफर किया गया था। स्वास्थ्य विभाग का कहना है कि बच्ची कैसे संक्रमित हुई। इस बारे में अभी कोई जानकारी नहीं मिल पाई है। उसके परिवार के सदस्यों को आइसोलेट कर दिया है। बच्ची अपने ननिहाल में फरीदाबाद यूपी रह रही थी। उसके पिता व मामा जयपुर में ईदगाह रोड, गलतागेट थाना क्षेत्र में रहकर मजदूरी करते है।

परकोटे में कोरोना संक्रमितों का पता लगाने के लिए सैंपलिंग का काम तेज हो गया है। डोर टू डोर सर्वे करने जाती मेडिकल टीम

दो पुलिस थानों के कांस्टेबल व हेडकांस्टेबल भी कोरोना संक्रमित

25 मार्च को ओमाना से जयपुर आए रामगंज निवासी एक व्यक्ति के पॉजिटिव आने पर 27 मार्च को पहली बार रामगंज सहित परकोटे के सात थाना इलाकों में कर्फ्यू लगाया गया था। इसके बाद तीन दिन पहले लालकोठी, खोहनागोरियान, आदर्श नगर इलाके में भी कर्फ्यू लगाया गया है। इसी बीच पुलिस विभाग के लिए एक बुरी खबर है। यहां नार्थ जिले के माणकचौक थाने के एक पुलिस कांस्टेबल में कोरोना संक्रमित होने का मामला शुक्रवार को सामने आया था। इसके बाद ही अब शनिवार को भी जयपुर पुलिस कमिश्नरेट के नार्थ जिले में रामगंज थाने के एक हेडकांस्टेबल और उनके संपर्क में आने से बेटे के भी कोरोना संक्रमित होने का मामला सामने आया है।

कोरोना संक्रमण को रोकने के लिए शहर की कॉलोनियों व गलियों में दमकलकर्मी सेनेटाइज कर रहे है

जयपुर में तीन मार्च को सामने आया था पहला केस

राजस्थान में कोरोना संक्रमण का पहला केस तीन मार्च को जयपुर में इटली के नागरिक में सामने आया था। इसके बाद उसकी पत्नी भी पॉजिटिव पाई गई थी। 31 मार्च तक ये आंकड़ा कुल 93 पर पहुंचा था। इसके बाद सिर्फ तीन दिन में 4 अप्रैल को 200 के पार पहुंच गया। वहीं, दो दिन बाद ही 6 अप्रैल को कुल संक्रमित लोगों की संख्या 300 के पार हो गई। 9 अप्रैल को एक साथ 80 केस आने से ये आंकड़ा 450 के पार पहुंचा। इसके बाद रविवार तक आंकड़ा 750 के पार पहुंच गया। 



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here