• भाजपा महासचिव कैलाश विजयवर्गीय ने कोरोना से जंग जीतने वाले और उनका इलाज करने वाले डॉक्टर और पैरामेडिकल स्टाफ को बधाई दी
  • इंदौर में 6 अप्रैल को 11 और 10 अप्रैल को 12 कोरोना संक्रमितों को डिस्चार्ज किया गया, इनमें से एक एमआरटीबी और अन्य अरविंदो में भर्ती थे 

दैनिक भास्कर

Apr 10, 2020, 06:30 PM IST

इंदौर. शहर में कोरोना के बढ़ते संक्रमण के बीच एक और राहतभरी खबर सामने आई है। अरविंदो हाॅस्पिटल में इलाज करवा रहे 12 मरीज शुक्रवार शाम पूरी तरह से स्वस्थ्य होकर घर लौटे। कोरोना से संक्रमित डॉक्टर आकाश ने कहा- बस यहां से निकलने के बाद भगवान से यही प्रार्थना है कि किसी को यह बीमारी ना हो। इस दौरान भाजपा के महासचिव कैलाश विजयवर्गीय अरविंदो अस्पताल पहुंचे और इन लोगों को ताली बजाकर घर रवाना किया। विजयवर्गीय ने इस दौरान अरविंदो अस्पताल के डॉक्टर्स और पैरामेडिकल स्टॉफ काे भी बधाई दी। इससे पहले भी 11 मरीज ठीक होकर घर जा चुके हैं। इनमें से 10 मरीज अरविंदो अस्पताल में भर्ती थे, जबकि एक मरीज एमआरटीबी अस्पताल में था। अब तक कुल 33 लोग ठीक होकर घर जा चुके हैं।

आकाश बोले – 10 दिन से भर्ती था
कोरोना से जंग जीत कर घर लौट रहे डॉ. आकाश तिवारी ने बताया कि कोराेना संक्रमित होने का पता चलने के बाद मैं 10 दिन पहले अस्पताल में भर्ती हुआ था। यहां पर डॉक्टर और नर्स सहित पूरी टीम ने हमारा बहुत अच्छे से ख्याल रखा। ऐसे समय में इन्होंने हमारी इतनी मदद की मैं इसे कभी नहीं भूल पाऊंगा। मैं बस भगवान से यही प्रार्थना करता हूं कि यह बीमारी किसी को ना हो। यदि हो भी जाए तो सभी ठीक हो जाएं। शुक्रवार को घर गए सभी मरीज अरविंदो अस्पताल में भर्ती थे। इनकी दूसरी रिपोर्ट भी निगेटिव आने के बाद इन्हें डिस्चार्ज किया गया। शहर में अभी 910 लोगों को होम क्वारैंटाइन किया गया है। वहीं, 3899 लोग होम क्वारैंटाइन से बाहर आ चुके हैं। वहीं, करीब साढ़े 11 लोगों को अलग-अलग स्थानों पर क्वारैंटाइन हाउस में रखा गया है।

Indore News In Hindi : Kailash Vijayvargiya | Indore Coronavirus Latest Updates: 12 Corona Patients Recover, Discharged From Sri Aurobindo Hospital | कोरोना को हराकर घर लौटे डॉक्टर ने कहा- भगवान से प्रार्थना करता हूं कोई इस बीमारी की चपेट में ना आए… और आए तो ठीक हो जाए
डॉक्टर आकाश तिवारी कोराेना संक्रमित अन्य लोगों के साथ शुक्रवार को डिस्चार्ज हुए।

इंदौर के पहले व्यक्ति, जिन्होंने कोरोना से जंग जीती थी
एमवायएच में कोरोना मरीज के इलाज के दौरान संक्रमित हुए मेल नर्स राजेश असावरा 6 अप्रैल को डिस्चार्ज हुए थे। राजेश इंदौर के पहले मरीज थे, जिन्होंने कोरोना से जंग जीती। अस्पताल से घर लौटते वक्त अस्पताल के स्टाफ ने तालियां बजाकर उनकी हौंसला अफजाई की थी। राजेश ने बताया कि मेरी ड्यूटी आइसोलेशन वार्ड में थी। इसके बाद मुझे गले में खराश हुई। 29 मार्च को मेरी रिपोर्ट पॉजीटिव आई। आइसोलेशन वार्ड में ही 14 दिन रहा। इस दौरान थोड़ा हतोत्साहित भी हुआ, लेकिन सभी नर्सों व स्टाफ ने अच्छी देखभाल की। इस घातक बीमारी से उबरने में मेरी हर तरह से मदद की। रविवार को भी मेरी जांच हुई, जो निगेटिव आई है। कोरोनावायरस को हराकर योद्धा बनकर निकल रहा हूं।



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here