• टीआई चंद्रवंशी की रिपोर्ट पॉजिटिव आने के बाद अरविंदो अस्पताल में भर्ती किया गया था 
  • टीआई के साथ रहे जूनी थाने के एएसआई भी कोरोना की चपेट में, खजराना टीआई संतोष सिंह का भी चल रहा इलाज
  • इंदौर में अब तक 890 लोग कोरोना से संक्रमित, वायरस ने अब तक टीआई समेत 49 लोगों की जान ली

दैनिक भास्कर

Apr 19, 2020, 09:03 AM IST

इंदौर. काेराेना से सबसे ज्यादा प्रदेश में प्रभावित शहर इंदाैर में रविवार सुबह एक दुखद खबर सामने आई। लोगों की जान बचाने के लिए हमारे एक योद्धा ने अपनी जान गवां दी। काेरोना के चपेट में आए इंदौर के जूनी थाने के इंस्पेक्टर (टीआई) देवेंद्र चंद्रवंशी की शनिवार देर रात मौत हो गई। सीएसपी दिशेष अग्रवाल ने पुष्टि करते हुए बताया कि हमारे जांबाज टीआई देवेंद्र अब हमारे बीच नहीं रहे। सुबह जैसे ही पुलिसकर्मियों की नींद खुली और ये दुःखद सूचना मिली तो सबका मन बैठ गया। टीआई का अरविंदो अस्पताल में कई दिनों से इलाज चल रहा था। कोरोना के साथ ही उन्हें निमोनिया का संक्रमण बहुत ज्यादा हो गया था। हालत गंभीर होने पर वे 15 दिन से वेंटिलेटर पर थे। 2007 में एसआई बने चंद्रवंशी शाजापुर जिले के रहने वाले थे। उनकी मौत से पूरे पुलिस महकमे में शौक छा गया है। इससे पहले शनिवार को पंजाब के लुधियाना में कोरोना पॉजिटिव पाए गए एसीपी अनिल कोहली की मौत हो गई थी। एसीपी कोहली अस्पताल में कई दिनों से भर्ती थे और वह वेंटिलेटर पर थे।

890 पॉजिटिव, 49 ने तोड़ा दम
कोरोना से बुरी तरह प्रभावित शहर इंदौर में शनिवार को आई रिपोर्ट में महज 9 नए मरीज मिले, जो बीते 7 दिन में सबसे कम है। इससे पहले 12 अप्रैल को 8 मरीज आए थे। इसके साथ ही शहर में कुल मरीजों की संख्या 890 हो गई है। हालांकि इसको लेकर कुछ पेंच हैं। दरअसल, शुक्रवार को 50 नए मरीज मिलने के बाद स्वास्थ्य विभाग ने इंदौर में मरीजों की कुल संख्या 892 बताई थी। शनिवार को इसे घटाकर 881 कर दिया। बाद में सीएमएचओ ने स्पष्टीकरण दिया कि शुक्रवार को जो 50 की सूची आई थी, उसमें 11 मरीज दूसरे जिलों के थे, इसलिए उन्हें हटा दिया।

टीआई सहित अब तक 49 लोगों की वायरस ने जान ली

रिपोर्ट में एक उपचाररत मरीज की मौत भी पुष्टि हुई है। गफूर खां की बजरिया निवासी 70 वर्षीय महिला की निजी अस्पताल में मृत्यु हो गई। देर रात टीआई की मौत के साथ शहर में अब मृतकों का आंकड़ा 49 पहुंच गया है। इसी बीच, प्रशासन ने पूरे शहर की स्क्रीनिंग कराने का फैसला किया है। इसके लिए 1600 टीमें बनेंगी जो अगले सात दिन में शहर के 5 लाख घरों में लोगों की सेहत की जानकारी जुटाएगी। सीएमएचओ डॉ. प्रवीण जड़िया ने बताया कि इसमें से 1 लाख घरों में (ज्यादातर कंटेनमेंट एरिया) करीब 7 लाख लोगों की स्क्रीनिंग की जा चुकी है। 525 टीमें संक्रमित इलाकों में सर्वे कर बीमारी के लक्षण वाले मरीजों की पहचान कर रही है। इस दौरान करीब 650 में से 40 के सैंपल लिए हैं। अब दायरा बढ़ाने के लिए 230 अतिरिक्त टीमें बना दी हैं। रविवार से कुल 640 टीमों ने काम शुरू किया। इसके अलावा 500 और टीमें बढ़ा रहे हैं। दो-तीन दिन में लगभग 1200 से 1600 टीमें घर-घर पहुंचेंगी।



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here