दैनिक भास्कर

Jun 01, 2020, 04:54 PM IST

बैतूल. बस स्टैंड के पास रहने वाले दुर्गादास मालवीय और उनकी पत्नी प्रतिभा मालवीय इंसानियत की मिसाल बन गए हैं। इन दंपती ने एक बिना मां-बाप के बेटे काे आश्रय दिया। पाल-पाेसकर न केवल शादी की, बल्कि घर भी बनाकर दिया। इसके साथ ही अनाथ बेटी काे अपनी बहू भी बनाया। मालवीय दंपती के इस प्रयास की अब सभी जगह सराहना हाे रही है। 
रविवार काे हुई शादी : हाेटल संचालक दुर्गादास मालवीय के बेटे विजय दरोकार और पूनम नायक की रविवार काे सादगीपूर्ण तरीके से शादी हुई। विजय ने बताया कि वह 10 साल की उम्र का था, तभी माता-पिता का देहांत हो गया था। तभी से मालवीय दंपती ने उन्हें पाला, पाेसा।  विजय ने बताया कि माता-पिता तुल्य परिवार ने ही उन्हें मकान बनाकर दिया। आज शादी करवाकर मेरा घर भी बसाया। उल्लेखनीय है कि िवजय हाेटल का काराेबार संभालता है। शादी में अास-पड़ाेस के लाेग भी जुटे।
बिन मां बाप की लड़की से की शादी  : विजय की जिस लड़की से शादी हुई है, उसके भी माता-पिता नहीं हैं। वह घाेड़ाडाेंगरी में किराए के मकान में रहती थी। मालवीय दंपती ने देखा ताे उसका विवाह िवजय से कराया। शादी का पूरा खर्च दुर्गादास मालवीय औैर उनकी पत्नी प्रतिभा ने उठाया। 



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here