• बाल कल्याण समिति के सदस्यों ने मूकबधिर के पिता काे खाेजा
  • 26 मार्च को बैतूल में सोनाघाटी के पास मिला था मूकबधिर

दैनिक भास्कर

Jun 17, 2020, 08:09 AM IST

बैतूल. घर से बिना बताए निकले दिव्यांग नाबालिग को बाल कल्याण समिति ने पिता से मिलवाया। यूपी का रहने वाला बालक 11 मार्च को घर से एक बोरी में बर्तन और 200 रुपए लेकर निकला था। यह 26 मार्च को बैतूल में सोनाघाटी के पास मिला था। इशारों में ही बात करने वाले इस नाबालिग  से उसके घर का पता निकालना आसान नहीं था, लेकिन बाल कल्याण समिति के सदस्यों ने पिता का पता निकालकर तीन माह बाद उन्हें सौंप बेटे काे सौंप दिया। 
उत्तर प्रदेश के ग्राम उमरी जिला बहराइच गांव से एक 17 वर्षीय (मूकबधिर) सूबेदार पिता भगवती प्रसाद गुप्ता 11 मार्च को लापता हो गया था। लॉकडाउन के दौरान 26 मार्च 2020 को फारेस्ट बेरियर सोनाघाटी के पास मिला। इसके पास एक बोरी में कुछ बर्तन और करीब 200 रुपए की चिल्लर थी। इसके अलावा इसके पास कोई भी दस्तावेज नहीं था जिससे इसकी पहचान हो सके। वनकर्मियों ने बालक को पुलिस के हवाले किया और पुलिस ने चाइल्ड-लाइन के माध्यम से बालक कल्याण समिति के समक्ष पेश किया। जहां से उसे एबनेजर बाल गृह भेज दिया था। बाल कल्याण समिति अध्यक्ष प्रशांत मांडवीकर सहित सदस्यों ने उसके पिता की खोज करके सोमवार को पिता को सौंप दिया। प्रशासन ने बाल कल्याण समिति की टीम को बधाई दी है।



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here