• केन्द्र विदेशों में फंसे भारतीयों को लाने के लिए विशेष प्लेन भेज रहा है

दैनिक भास्कर

May 08, 2020, 07:59 AM IST

दतिया. केन्द्र विदेशों में फंसे भारतीयों को लाने के लिए विशेष प्लेन भेज रहा है। तो प्रदेश की सरकारें भी मजदूर वर्ग के लोगों को लाने ले जाने के लिए बसों का इंतजाम कर रहीं। ऐसे में वह लोग परेशान है जो अकेले फंसे हैं। ई पास के लिए आवेदन करते है तो कोई न कोई शर्त रोड़ा बन जाती है। ऐसा ही मामला है ग्राम दुरसड़ा के जीतू प्रजापति का। जीतू नोएडा की किसी फैक्ट्री में काम करता है। लॉक डाउन के कारण फैक्ट्री बंद है। अब वह अपने गांव नहीं आ पा रहा। 
दैनिक भास्कर से फोन पर चर्चा करते हुए जीतू ने बताया कि उसने ई पास के लिए ऑन लाइन आवेदन किया। लिंक ने 5 लोगों का समूह मांगा। वह अकेला है। इसलिए उसे न तो ई पास मिला और न ही घर आने का कोई रास्ता उसे सूझ रहा। नोयडा में वह परेशान हैं। हमीरपुर के किशोरी प्रजापति मुंबई बोरवली में फंसे है। उन्हें भी दतिया आने की अनुमति तो मिल ही नहीं रही है। वह स्वयं के खर्चे पर आने का सोच रहे। लेकिन साधन भी नहीं मिल रहे है। किशोरी कहते है कि यहां स्थिति खराब है। मरीज बढ़ रहे है। ऐसे में घर की याद आती है। 

पति गाजियाबाद में पत्नी मायके दतिया में 
गाजियाबाद की गीता 19 मार्च को अपने मायके मुढ़ियन का कुआं पर आई थी। अपने दोनों बच्चों के साथ गीता तभी से दतिया में फंसी है। गीता के पति गाजियाबाद में अकेले है। यहां पर गीता अपने बच्चों के साथ अकेली। चूंकि दिल्ली रेड जोन में है। गाजियाबाद दिल्ली के पास ऐसे में वहां जाने की अनुमति नहीं मिल पा रही है। स्थानीय प्रशासनिक या शासन स्तर पर ऐसे फंसे हुए लोगों को उनके मुकाम तक पहुंचाने की भी कोई व्यवस्था न होने से गीता परेशान हैं।

भाषा बन रही परेशानी कर्नाटक में फंसे 15 लोग
जिले के ग्राम भलका के 15 लोग कर्नाटक के ग्राम ईकोटा में लॉक डाउन से ही फंसे है। वहां वह दतिया आने के लिए कई तरह के प्रयास कर रहे। वहां के अधिकारी हिंदी नहीं समझते इसलिए वह न तो ई पास के लिए आवेदन कर पा रहे और न ही इतनी दूर आने की हिम्मत। सभी लोग एक फैक्ट्री में काम करते थे। हालांकि फैक्ट्री मालिक खाने पीने का इंतजाम कर रहा है। सभी मजदूरों के एडवोकेट शिवराज सिंह जाट फोटो आदि मंगा कर प्रदेश सरकार में आवेदन कर रहे है। लेकिन वह कब तक वापस आएंगे, सरकार क्या इंतजाम करेगी। यह अब तक तय नहीं है। एडवोकेट जाट के अनुसार किसी के पास आधार कार्ड नहीं है किसी के पास अन्य कोई दस्तावेज। इसलिए अधिक परेशानी आ रही है।



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here