• लॉकडाउन के कारण बैंक से एक बार में 49 हजार रुपए व कियोस्क सेंटर से 10 हजार रुपए की एक मुश्त किस्त मिल र

दैनिक भास्कर

May 22, 2020, 08:22 AM IST

शिवपुरी. लॉकडाउन के कारण बैंक से एक बार में 49 हजार रुपए व कियोस्क सेंटर से 10 हजार रुपए  की एक मुश्त किस्त मिल रही है, जबकि किसानों को इन दिनों विवाह के फलदान सहित गृहस्थी व दहेज का सामान खरीदने के लिए ज्यादा रुपए की आवश्यकता हो रही है। ऐसे में एकमुश्त आवश्यकतानुसार पैसे नहीं मिलने से किसान व ग्रामीण उपभोक्ता परेशान बने हुए हैं। 
ग्राहकों का कहना है कि शादी विवाह के लिए सामान खरीदने के लिए अपनी जमा पूंजी को निकालने के लिए पहले तो घंटों लाइन में लगना पड़ता है इसके बाद जब नंबर आता है तो वहां पर बैंक से 49 हजार रुपए तो कियोस्क से महज 10 हजार रुपए दिए जा रहे हैं  जबकि ये पैसे विवाह में गहने गुरिया खरीदने के लिए पर्याप्त नहीं हो रहे हैं। जरूरत है ज्यादा की मिल रहे हैं कम किसानों का कहना है कि बेटा-बेटी के विवाह के लिए गहने गुरिया खरीदने के लिए ज्यादा पैसे की जरूरत है, लेकिन  बैंक से कम पैसे मिल रहे हैं। 

किसानों द्वारा उपज बेचने के 15 दिनों बाद भी नहीं आया खाते में पैसा
इसके अलावा कई किसान ऐसे हैं, जिन्हें अपनी उपज बेचने के 15  दिन बाद भी कई किसानों के खातों में पैसे नहीं आए हैं। इन लोगों का पैसा खातों में आ भी गया है तो बैंक उन लोगों को पूरा पैसा नहीं दे रहे हैं। किसान दिन भर भूखे प्यासे बैंक के बाहर धूप में खड़े रहते हैं और नंबर आने पर मात्र 49 हज़ार रुपए का भुगतान बैंक से उन्हें मिल पा रहा है। बैंक के बाहर लग रही है लंबी लाइन बैंक के बाहर पैसे निकालने के लिए लोगों की लाइन लग रही है। उपभोक्ताओं का कहना है कि बैंक के बाहर खुले में तेज धूप में दिन भर खड़े रहते हैं। बैंक के बाहर उपभोक्ताओं के लिए छाया तक की व्यवस्था नहीं की गई है। कई बार दिन भर लाइन में लगने के बाद भी लोगों का नंबर नहीं आ पाता है। बैंक का टाइम खत्म होने के बाद भी खाली हाथ घर लौट जाते हैं। एटीएम भी खराब है। कस्बे में भारतीय स्टेट बैंक में लगा एटीएम लंबे समय से खराब  है, इसके चलते ज्यादा परेशानी हो रही है। भारतीय स्टेट बैंक एटीएम मशीन का कार्ड खराब होने के कारण एटीएम बंद है। भारतीय स्टेट बैंक की शाखा में बैंक प्रबंधन ने एटीएम खराब होने की सूचना लगाई है। 



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here