Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

रांची3 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक
For samples of five coaches, passengers of 16 coaches were allowed to go without investigation. | पांच बोगी के यात्रियों के सैंपल लिए, 16 बोगियों के यात्रियों को बिना जांच ही जाने दिया

रविवार को मुंबई से रांची दो ट्रेनें आईं, जिसमें एक ट्रेन मुंबई से रांची साप्ताहिक चलती है, जो सुबह रांची स्टेशन 6:30 बजे पहुंची। दूसरी ट्रेन मुंबई से हटिया सुबह 8:30 बजे पहुंची। जिला प्रशासन ने मुंबई से हटिया आई स्पेशल ट्रेन के यात्रियों की कोरोना जांच की। इसमें केवल 5 बोगी के यात्रियों की जांच की। बाकी 16 बोगी के यात्रियों को छोड़ दिया गया। जिला प्रशासन के अधिकारी का कहना है कि केवल स्पेशल ट्रेन के यात्रियों की ही कोरोना जांच की जाएगी।

जांच ईमानदारी से कीजिए, खानापूर्ति से ही बिगड़ी है स्थिति

जांच के नाम पर खानापूर्ति हो रही है। ट्रेन अपने निर्धारित समय सुबह 3:45 बजे के बजाय करीब 5 घंटे लेट 8:35 बजे हटिया स्टेशन पहुंची। जिला प्रशासन ने प्लेटफाॅर्म नंबर एक पर जांच की व्यवस्था की थी। पहली बार शिविर एक से पांच नंबर तक की बोगी के सामने लगाई गई थी। ट्रेन आने के बाद यात्रियों को बोगी में ही बैठने का आदेश दिया गया। शेष 16 बोगी के यात्रियों को बिना जांच के ही जाने को कहा गया। जिला प्रशासन के अधिकारी ने दावा किया कि 1450 में से 900 यात्रियों की रेंडम जांच की गई, जिसमें 13 संक्रमित मिले, जिन्हें खेलगांव क्वॉरेंटाइन सेंटर भेज दिया गया।

ट्रेन से आए 1450 यात्री, डेढ़ घंटे में कोरोना जांच पूरी

मुंबई से हटिया स्पेशल ट्रेन से 1450 यात्री हटिया आए। ट्रेन में कुल 21 बोगियां थीं, जिनमें जिला प्रशासन द्वारा पांच बोगी के समक्ष बैरिकेडिंग कर कोरोना जांच की जा रही थी। एक बोगी में 90 यात्री सवार थे। इस हिसाब से पांच बोगी में 450 यात्री थे, जिनकी कोरोना जांच की गई। 1000 यात्रियों को बिना जांच के ही जाने दिया गया। जिला प्रशासन द्वारा जांच सुबह 8:40 बजे से शुरू की गई और सुबह 10:10 बजे महज डेढ़ घंटे में समाप्त कर दिया गया।

खबरें और भी हैं…



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here