Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

नई दिल्ली4 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक
  • केंद्र से टीका मिलते ही शुरु हो जाएगा वैक्सीनेशन अभियान

नए साल में कोरोना महामारी को जड़ से खत्म करने के लिए सरकार ने कमर कस ली है। नए साल के शुरुआत में ही लोगों को कोरोना वैक्सीन लगनी शुरु हो जाएगी। दिल्ली सरकार का दावा है कि 51 लाख लोगों को वैक्सीन दिए जाने की तैयारी कर ली है।

कोविड-19 वैक्सीनेशन परियोजना से जुड़ी डॉ सुनीला गर्ग का कहना कि वैक्सीन मिलने पर इन 3 लाख हेल्थ वर्कर को 5 दिनों में वैक्सीन लगा दी जाएगी। करीब 3 लाख हेल्थ वर्कर के बाद 6 लाख फ्रंट लाइन वर्कर और फिर करीब 42 लाख लोग 50 वर्ष से अधिक उम्र के या गंभीर रोग से ग्रसित लोगों को वैक्सीन दी जाएगी।

पहले चरण में वैक्सीन लगाने के लिए हर जिले में 60 से अधिक कोविड-19 वैक्सीनेशन सेंटर तैयार किए जा रहे हैं। इस तरह पूरी दिल्ली में करीब एक हजार कोविड-19 वैक्सीनेशन सेंटर तैयार किए जा रहे हैं। कोविड-19 वैक्सीन पहले राजीव गांधी सुपर स्पेशलिटी अस्पताल में आएगी और फिर यहां से पूरी दिल्ली में स्थित 603 कोल्ड चेन प्वाइंट को वितरित किया जाएगा। लोगों को वैक्सीन लेने के लिए पंजीकरण किया जा रहा है और अब तक करीब 2 लाख हेल्थ वर्कर का पंजीकरण हो चुका है।

ऐसा है दिल्ली का पहला वैक्सीनेशन सेंटर

सेंटर में होंगे तीन कमरे

पहला वेटिंग रूम, इसमें लोगों को अपनी बारी का इंतजार करना होगा। इसके बाद काउंटर नंबर एक पर कागजों की जांच होगी कि यह वहीं व्यक्ति है, जिसे वैक्सीन लगाने के लिए बुलाया गया है या फिर कोई और है। इसके बाद वैक्सीनेशन रूम में वैक्सीन लगाई जाएगी।

तीसरा ऑब्जर्वेशन रूम होगा, जहां आपको 30 मिनट तक रहना होगा। इस कमरे में बैठने, पीने के पानी और टॉयलेट की सुविधा है। वैक्सीन का दुष्प्रभाव पड़ने पर उस व्यक्ति को तत्काल इलाज देने के लिए विशेषज्ञ डॉक्टरों की व्यवस्था पूरी कर ली गई है।

श्रीनिवासपुरीके निगम पार्षद राजपाल सिंह की देखरेख में यह वैक्सीनेशन सेंटर तैयार हुआ है। यहां के निगम पार्षद राजपाल सिंह ने कहा कि हमें खुशी है कि हमें दिल्ली का पहला वैक्सीनेशन सेंटर बनाने का मौका मिला। हमने इसे मॉडल वैक्सीनेशन सेंटर के रूप में विकसित किया है और अन्य जगहों पर भी अब इस तरह के सेंटर बनाए जाएंगे।

सुबह 9 से शाम 5 बजे तक लगेगी वैक्सीन

वैक्सीन लगाने वाली एक टीम में 5 लोग शामिल होंगे।

एक टीकाकरण बूथ पर एक दिन में 100 लोगों को वैक्सीन लगाई जाएगी।

वैक्सीन लेने के लिए पंजीकरण कराना होगा। इसके बाद एसएमएस सहित अन्य माध्यमों से वैक्सीन लगवाने का स्थान और दिन बताया जाएगा।

दिल्ली में करीब 3500 स्वास्थ्य कर्मचारियों को ट्रेनिंग दी जा रही है। 1800 कर्मचारी कोल्ड चेन प्वाइंट पर तैनात रहेंगे।

600 स्वास्थ्यकर्मी निजी अस्पतालों के हैं।

दिल्ली में 603 कोल्ड चेन प्वाइंट बनाए गए हैं।



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here