• लॉकडाउन के दौरान खाते में दो हजार भेजने के नाम पर ठगी, सैनिटाइजर व मास्क बेचने के नाम पर निकाले पैसे

दैनिक भास्कर

May 16, 2020, 09:50 PM IST

जामताड़ा. साइबर जालसाजों ने अब ठगी का नया तरीका अपनाया है। शातिर साइबर अपराधी अब क्‍यूआर कोड (क्विक रिस्पांस) भेजकर लोगों को ठगी का निशाना बना रहे हैं। जहां साइबर अपराधी अब व्हाट्सएप पर क्यूआर कोड भेजकर लोगों के बैंक खातों को हैक कर ठगी कर रहे हैं। शनिवार को साइबर ठगी का अलग-अलग मामला सामने आया। जिसमें एक पुलिसकर्मी की पत्नी के बैंक खाते से 19 हजार 663 रुपए की निकासी कर ली। 

शुक्रवार को चंचला मंदिर रोड स्थित गिरिजानंद अपार्टमेंट के रहने वाले दवा व्यवसायी रोहित लोहारूका की पत्नी खुशबू अग्रवाल के व्हाट्सएप पर क्‍यूआर कोड भेजकर साइबर अपराधियों ने अपना शिकार बना लिया। दवा व्यवसायी की पत्नी एसबीआई बैंक के खाते से ठगों ने 48 हजार रुपए की निकासी कर ली। इस मामले में दवा व्यवसायी रोहित लोहारूका ने शनिवार को साइबर थाने में लिखित शिकायत की। जिसके आधार पर साइबर थाना में प्राथमिकी दर्ज कर ली गई है। 

केस एक : राहत राशि भेजने के नाम पर 19 हजार 663 रुपए की ठगी
हैल्लो एसबीआई से बोल रहा हूं। सरकार की ओर से दो हजार रुपए बैंक खाता में दिया जा रहा है। इसके लिए एटीएम कार्ड नंबर बताईए। इतना बताते ही बैंक खाता से दो बार में 18 हजार 663 रुपए व 1000 रुपए खाता से निकल गया। पुलिस क्वाटर में रहने वाली धनमुनी मरांडी के मोबाइल पर रुपए निकलने का मैसेज आया तो उसे समझ में आ गया कि वह साइबर ठगों के झांसे में आ गई है। इस घटना के बावत उसने साइबर थाना जामताड़ा में प्राथमिकी दर्ज कराया है। दर्ज प्राथमिकी में कहा है कि उसका बैंक खाता एसबीआई गांदो ब्रांच में है। बताया गया है कि महिला के पति सोयलेन मुर्मू पुलिस में नौकरी करता है। घटना के बावत साइबर थाना में मामला दर्ज किया गया है। यह प्राथमिकी पीड़ित महिला धनमुनी मरांडी ने दर्ज करायी है।

केस दो: सैनिटाइजर और मास्क बेचने के नाम पर 48 हजार की ठगी 
उधर, 48 हजार रुपए की ठगी के शिकार व्यवसायी ने साइबर थाना जामताड़ा में मामला दर्ज कराया है। शहर के प्रतिष्ठित दवा दुकान पोपुलर मेडिकल हॉल के रोहित लोहारूका ने प्राथमिकी में कहा है कि वह चंचला मंदिर जामताड़ा के पास स्थित गिरजानंद अपार्टमेंट में रहता है। ठगों ने उसकी पत्नी खुशबु कुमारी अग्रवाल को फोन कर मास्ट व सैनिटाइजर के लिए वाट्सएप्प व्हाट्सएप पर अपना क्यूआर कोड भेजा। बताया कि उसे रिसीव करते ही पैसा आ जाएगा। उक्त मैसेज के बाद ठग ने सैनिटाइजर व मास्क खरीदने की बात कहकर व्यवसायी रोहित से बात किया। रोहित ने समझा कि सही ग्राहक है। यही सोचकर उसने पत्नी खुशबु कुमारी अग्रवाल के मोबाइल नंबर पर गूगल पे अकाउंट में 40 हजार रुपया बतौर एडवांस जमा करने को कहा। इसके बाद उक्त ठग ने दो बार बार कोड भेजा। जिसे स्कैन करते हीं उसके पत्नी के बैंक खाता से 40 हजार व 8 हजार रुपया की निकासी हो गई। 

गाोपनीय जानकारी साझा न करें 
जामताड़ा साइबर थाना प्रभारी सुनील कुमार चौधरी ने कहा कि लोगों को साइबर फ्रॉड करने वालों से सावधान रहने की जरूरत है कि अपराधी और सरकारी घोषणाओं को ढाल या हथियार बनाकर लोगों के साथ घटना को अंजाम दे रहे हैं। कहा कि साइबर ठगी के दर्ज मामलें की छानबीन में पुलिस जुट गई है। वहीं आम लोगों से अपील किया कि किसी भी स्थिति में अपना बैंक से संबंधित निजी जानकारी किसी से शेयर ना करें।



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here