• 20000 घरों तक पहुंची हेल्थ सर्वे की टीम बुधवार को
  • 11000 लोगों की स्क्रीनिंग की गई पूरे शहर में
  • 1000  सैंपल सुआब के लिए गए जांच करने के लिए
  • 101 केस बने एक दिन में सबसे ज्यादा लॉकडाउन का उल्लंघन करने के

दैनिक भास्कर

Apr 16, 2020, 04:09 AM IST

भोपाल. लॉकडाउन वन में हुई गलतियों से सबक लेते हुए अब भोपाल में कोरोना से लड़ाई में कुछ तेजी नजर आ रही है। कंटेनमेंट और उसके आसपास के इलाकों खासकर पुराने शहर में सोशल डिस्टेंसिंग को लेकर सख्ती बढ़ा दी गई है। संक्रमितों का पता लगाने के लिए स्क्रीनिंग और सैंपलिंग की संख्या में भी इजाफा किया गया है। 20 दिन पहले तक जहां रोजाना 250 सैंपल भी नहीं हो रहे थे, बुधवार को उनकी संख्या 1000 तक पहुंच गई। मंगलवार को तो 1500 सैंपल लिए गए थे।

स्क्रीनिंग के लिए लगी 40 टीमों ने 11 हजार लागों की स्क्रीनिंग की। 20 हजार लोगों के घरों का आशा कार्यकर्ताओं ने सर्वे किया। 10 हजार लोगों की स्क्रीनिंग अकेले जहांगीराबाद कंटेनमेंट एरिया में हुई जबकि एक हजार की स्क्रीनिंग अशोका गार्डन और बैरागढ़ इलाके में हुई। इधर किराना दुकानें खुलने से पुराने शहर के मुकाबले नए शहर में कुछ ज्यादा चहल पहल देखी गई।

सीएमएचओ डॉ. प्रभाकर तिवारी ने बताया कि बैरागढ़, सिकंदरी सराय, अशोका गार्डन और जहांगीराबाद इलाके से एक हजार से ज्यादा लोगों के सैंपल लिए गए हैं। इसमें से 800 से ज्यादा सैंपल सिर्फ जहांगीराबाद इलाके से लिए गए हैं। उन्होंने बताया कि कोरोना पॉजिटिव लोगोंं के संपर्क में आए 2900 से ज्यादा लोगों का पता लगा लिया गया है। इनमें से 700 से ज्यादा के सैंपल लिए जा चुके हैं। जबकि जमातियों के संपर्क में आए 389 लोगों की ट्रेसिंग हो चुकी है। ज्यादातर के सैंपल की रिपोर्ट निगेटिव आई है।

3000 किराना दुकानें खुलीं…12 हजार को होम डिलीवरी

बुधवार को 3000 किराना दुकानें खोली गईं। इस वजह से होम डिलीवरी का दबाव कुछ कम हुआ। लगभग 12 हजार घरों में किराने की होम डिलीवरी हुई। मुख्य खाद्य सुरक्षा अधिकारी डीके वर्मा ने बताया कि थोक दुकानों को दिन के हिसाब से खोला जा रहा है। हर कमोडिटी के लिए अलग-अलग दिन तय किए हैं।

चैकिंग …सामान ले जाते रोका, गुमाश्ता देखा तब छोड़ा

सोमवारा चौराहे पर वाहन चालक को पुलिस ने रोका तो उसने कहा-मेडिकल स्टोर है, इसलिए सामान ले जा रहा हूं। पुलिस ने गुमाश्ता देखा इसके बाद ही उसे जाने दिया। उधर कोर्ट ने लॉकडाउन के दौरान बेवजह घूमने वाले सोनू चौरसिया की जब्त गाड़ी वापस करने से इनकार कर दिया।

थूकने वालों पर भी सख्ती
निगम के अपर आयुक्त राजेश राठौड़ ने कहा कि हम सार्वजनिक स्थानों पर थूकने वालों पर भी सख्ती कर रहे हैं। मैदानी अमले को स्पष्ट निर्देश दिए गए हैं कि घर से जरूरी काम से निकल रहे लोग भी यदि इधर-उधर थूकते हुए नजर आएं तो तत्काल चालान बनाएं। थूक से संक्रमण का सबसे ज्यादा खतरा है।

101 में से 94 केस पुराने शहर के
बुधवार को पुलिस ने 24 घंटे के भीतर सबसे ज्यादा 101 केस लॉकडाउन उल्लंघन के दर्ज किए। इनमें सबसे ज्यादा 94 केस पुराने शहर में दर्ज हुए, जबकि नए शहर में ये आंकड़ा महज सात है। हनुमानगंज पुलिस ने 12, टीला जमालपुरा व मंगलवारा पुलिस ने 8-8, तलैया पुलिस ने 7 और गौतम नगर व निशातपुरा पुलिस ने 4-4 केस दर्ज किए हैं। 22 मार्च से अब तक लॉकडाउन उल्लंघन के 1270 मामले किए जा चुके हैं।

डिस्टेंसिंग भूले, 500 का चालान
कोलार क्षेत्र की बीमाकुंज कॉलोनी में सब्जी विक्रेता द्वारा सोशल डिस्टेंसिंग का ध्यान नहीं रखने पर निगम अमले ने 500 रुपए का चालान काट दिया। किराना दुकानों पर सोशल डिस्टेंसिंग का पालन कराने के लिए पुलिस और नगर निगम के साथ खाद्य सुरक्षा विभाग के अमले ने भी दुकानों का निरीक्षण किया और सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करने की हिदायत दी। इस दौरान कहीं-कहीं अव्यवस्था भी मिली।

रहवासियों नेे संभाली व्यवस्था
चार इमली के समीप स्थित रविशंकर नगर कॉलोनी के रहवासियों ने कॉलोनी का गेट बंद कर दिया है। अन्य कालोनियों में भी ज्यादातर लोगों ने ऐसी व्यवस्था जमाई है कि कोई एक व्यक्ति घर से बाहर निकलता है और सबकी जरूरत का सामान लेकर उनके दरवाजे तक पहुंचा देता है। जिन कालोनियों में बुजुर्ग दंपति अधिक हैं वहां यह व्यवस्था अधिक चल रही है। कालोनियों में दूध की सप्लाई भी गेट तक ही हो रही है।



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here