• Hindi News
  • Local
  • Punjab
  • Accused Of Akali Dal Leaders For Doing Double Politics, Farmer Leader In Amritsar, Pandher Said The Party’s Stance Is Not Clear

अमृतसरएक घंटा पहले

  • कॉपी लिंक

रेलवे ट्रैक पर पक्के धरने के तीसरे दिन अर्द्धनग्न होकर सरकार के खिलाफ प्रदर्शन करते कृषि विधेयकों से नाराज किसान-मजदूर संगठनों के लोग।

  • अमृतसर में रेलवे ट्रैक पर धरने के तीसरे दिन शनिवार को आंदोलनकारी किसानों और मजदूरों को संगठन नेता एसएस पंढेर ने संबोधित किया
  • शुक्रवार को सुखबीर बादल ने कहा था-हरसिमरत कौर के इस्तीफे के रूप में अकाली दल के एक ही बम ने मोदी सरकार को हिला रखा है
  • अब किसान-मजदूर संघर्ष कमेटी के महासचिव पंढेर बोले-एनडीए का हिस्सा बना रहने के लिए अकाली दल के नेता खेल रहे हैं खेल

केंद्र सरकार के तीनों कृषि विधेयकों को लेकर विरोध का दौर जारी है। शनिवार को तीसरे दिन भी पंजाब के विभिन्न इलाकों में किसान-मजदूर संगठनों के लोग रेलवे ट्रैक पर बैठे हैं। आज नाराज किसानों ने तन के आधे कपड़े उतारकर सरकार के खिलाफ नाराजगी जताई। दूसरी तरफ इस मसले को लेकर आंदोलनकारियों की तरफ से शिरोमणि अकाली दल पर दोहरी राजनीति करने का आरोप लगाते हुए कहा है कि पार्टी का रुख साफ नहीं है। इससे पहले कल ही अकाली दल के अध्यक्ष सुखबीर बादल ने हरसिमरत कौर के इस्तीफे को एक बम धमाके का रूप देते हुए मोदी के हिल जाने की बात कही थी।

किसानों के धरने को संंबोधित करते किसान-मजदूर संघर्ष कमेटी के महासचिव एसएस पंढेर।

किसानों के धरने को संंबोधित करते किसान-मजदूर संघर्ष कमेटी के महासचिव एसएस पंढेर।

शनिवार को अमृतसर में रेलवे ट्रैक पर धरने के तीसरे दिन किसानों और मजदूरों को किसान-मजदूर संघर्ष कमेटी के महासचिव एसएस पंढेर ने संबोधित किया। इस दौरान पंढेर ने कहा कि भले ही शिरोमणि अकाली दल की नेत्री हरसिमरत कौर ने इस्तीफा दे दिया है, लेकिन अभी भी उनकी पार्टी का रुख साफ नहीं है। अकाली दल के नेतृत्व की तरफ से दोहरी राजनीति की जा रही है। यह सब एनडीए में बने रहने के लिए किया जा रहा है।

बीते दिन पत्नी हरसिमरत कौर के साथ ट्रैक्टर पर सवार होकर लंबी के धरने में शामिल होने के लिए जाते अकाली दल के अध्यक्ष सुखबीर बादल।

बीते दिन पत्नी हरसिमरत कौर के साथ ट्रैक्टर पर सवार होकर लंबी के धरने में शामिल होने के लिए जाते अकाली दल के अध्यक्ष सुखबीर बादल।

दरअसल, पिछले कुछ दिनों से केंद्र सरकार की तरफ से लाए गए कृषि सुधार संबंधी विधेयकों का देशभर में विरोध हो रहा है। सबसे ज्यादा असर पंजाब और हरियाणा पर पड़ रहा है। शुक्रवार को किसानों के भारत बंद को सूबे में भरपूर समर्थन मिला। इसके चलते बाजारों में सन्नाटा पसरा रहा और सड़कों पर किसान व दूसरे संगठन यातायात जाम करके सरकार के खिलाफ नाराजगी जताते रहे। मुक्तसर जिले के लंबी में दिए जा रहे धरने पर अकाली दल के अध्यक्ष सुखबीर बादल अपनी पत्नी हरसिमरत कौर के साथ शामिल हुए।

अमृतसर में रेलवे ट्रैक पर धरने पर बैठे किसान। इसी तरह पंजाब के दूसरे इलाकोंं में भी किसानों और दूसरे वर्गों की सरकार के खिलाफ नाराजगी जारी है।

अमृतसर में रेलवे ट्रैक पर धरने पर बैठे किसान। इसी तरह पंजाब के दूसरे इलाकोंं में भी किसानों और दूसरे वर्गों की सरकार के खिलाफ नाराजगी जारी है।

धरने के दौरान सुखबीर बादल ने कहा कि जिस तरह द्यितीय विश्व युद्ध में अमेरिका ने एक ही बम से पूरे जापान को हिलाकर रख दिया था, ठीक वैसे ही अकाली दल के एक बम (हरसिमरत कौर के इस्तीफे) ने मोदी सरकार को हिला दिया। सुखबीर के मुताबिक पार्टी किसानों के हक में खड़ी है और जब उनकी नहीं सुनी गई तो हरसिमरत को इस्तीफा देना पड़ा। सुखबीर के इस बयान पर आज अमृतसर से किसान-मजदूर नेता एसएस पंढेर ने पलटवार किया है।

जालंधर कैंट स्टेशन पर पटरी पर धरना दे सरकार के खिलाफ नारे लगाते किसान।

जालंधर कैंट स्टेशन पर पटरी पर धरना दे सरकार के खिलाफ नारे लगाते किसान।

जालंधर कैंट स्टेशन पर जहां किसानों ने पटरी पर धरना लगा दिया। किसानों का कहना है कि कृषि विधेयक को लेकर जब तक उनकी मांग नहीं मानी जाती, उनका प्रदर्शन जारी रहेगा। वहीं यूथ कांग्रेस ने भी किसानों के समर्थन में ट्रैक्टर रैली निकाली और प्रधानमंत्री का पुतला फूंका।

जालंधर में पंजाब युवा कांग्रेस के कार्यकर्ता ट्रैक्टर रैली में शामिल।

जालंधर में पंजाब युवा कांग्रेस के कार्यकर्ता ट्रैक्टर रैली में शामिल।



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here